सोने से तीन फीट | Three Feet From Gold – A Story About Perseverance

फूलों को भी मालूम नहीं होता है, उन्हें अगले सुबह मंदिर जाना है या फिर शमशान 


The flowers are not known either, they have to go to the temple the next morning or the crematorium


एक छोटी सी कहानी 


यह कहानी है अमेरिका के कपल की पति पत्नी के बीच में रिश्ता ठीक नहीं चल रहा था रोजाना झगड़ा होता था अनबन चल रही थी और बात तलाक तक पहुंच गई और जब तलाक हुआ और फिर पति को पत्नी को एक अमाउंट एक आना था वह पैसा इतना ज्यादा था कि इस ने सारा पैसा दे दिया और अपने पास देखा कि मात्र और मात्र इसके पास $70 बचे हैं $70 में होगा क्या कुछ समझ नहीं पा रहा था इसने अपनी जिंदगी  को देखा पलट कर के तो समझ में आया और पर्सनल लाइफ तबाह हो गई है रिश्तो के नाम पर कुछ भी नहीं बचा ‌ पत्नी चली गई और पैसों के नाम पर सिर्फ और सिर्फ इसके पास $70 थे।



Three Feet From Gold [2021] – A Story About Perseverance in Hindi
Three Feet From Gold – A Story About Perseverance in Hindi

If you are right then there is no need to get angry and if you are wrong then you have no right to get angry

इसको एक ही ख्याल आया दुनिया छोड़ कर के चला जाता हूं मर जाता हूं जान दे देता हूं एक ख्याल इसको आया ही था कि इतने में दूसरा ख्याल आया मेरे पास में $70 बचे हैं थोड़ी मौज मस्ती करता हूं फिर मर जाता हूं इन 70$ डॉलर को भी तो खत्म कर  जब सब कुछ खत्म हो ही गया है तो इन सब 70$ डॉलर को भी खत्म कर देता हूं   जब सब कुछ खत्म हो ही गया है तो इनको भी रख कर के क्या करूंगा इसी ख्याल के साथ में कसीनो के लिए निकल गया  जुआ खेल लूंगा पैसा उड़ाना मर जाऊंगा वहां पहुंचा तो लाइन लंबी थी अपनी बारी का इंतजार करने लगा और पास में एक न्यूज़ पेपर था उसे पढ़ने लगा 


Three Feet From Gold [2021] – A Story About Perseverance in Hindi
Three Feet From Gold – A Story About Perseverance in Hindi
Keep that arrow of effort alive in the quiver of courage, ‌ Lose everything in life, but keep alive the hope of winning again.

उस अखबार में से इसे एक बड़ी खबर देखी जिस में लिखी हुई थी कि सरकार ने एक बड़ी खदान को गोल्डमाइन जिसमें सरकार ने सोच कर कि सोना निकलेगा उस माइंस को उस माइन को नीलाम करने का ऐलान किया और वह नीलामी की तारीख थी वह उसी दिन थी थोड़ी  देर बाद उसका समय हो रहा था पास ही में वह जगह थी सुनसान जगह पर वह खदान थी इसने जब वह पड़ा कि जुए में पैसा लगाने से अच्छा है कि नीलामी में शामिल होता हूं  कुछ तो अलग करूं दिमाग वैसे भी इसको कुछ ठीक तो लग नहीं रहा था इसको लगा चलो यह छोड़ो इसे करते हैं तो वह यह ड्रॉप करके चला गया वहां जहां बड़ी सी नीलामी हो रही थी उस बड़ी सी खदान की हो इतना बड़ा गड्ढा जहां पर कुछ नहीं निकला था सरकार ने आशा त्याग दी 



उस जगह पर यह पहुंचा वहां जाकर यह सोचने लगा कि नीलामी में मुझे कुछ मिल गया तो ठीक है और यह जगह मुझे मिल जाती है इसमें से कुछ निकल गया तो ठीक है वरना इसी में कूदकर जान दे दूंगा ‌ बड़ा सा बहुत बड़ा गड्ढा था जहां पर को खदान खुद ही गई थी लेकिन निकला कुछ नहीं था यह वेट करने लगा कि कुछ और लोग आ जाएं  लेकिन इसके लिए सरप्राइज यह था कि वहां पर कोई नहीं पहुंचा एकलौता आदमी वहां पर  बिल्डिंग में पार्टिसिपेट करने के लिए पहुंचा और वह खदान इसके नाम कर दी गई $70 में उसे यह खदान मिल गई 


Three Feet From Gold [2021] – A Story About Perseverance in Hindi
Three Feet From Gold – A Story About Perseverance in Hindi

और यह अब सोच रहा था कि क्या करें कहां से कूदकर के जान दे कभी इसके पास मजदूर आया और कहा कि साहब  एक बात बताइए क्या करें आज हमें आज का पैसा तो मिला हुआ है  आज शाम तक की खुदाई का पैसा हमें मिला हुआ है आप कहे तो  क्योंकि आप इस के मालिक बन चुके हैं आप कहे तो खुदाई कर ले थोड़ा बहुत खुद लेते हैं या फिर जाए वापस  तो इस व्यक्ति ने कहा कि जब आपको पैसा मिला ही हुआ है 5:00 बजे तक का शाम तक का ‌ तो आप खुदाई कर दीजिए अभी तो 2:00 ही बजे हैं अभी आपके पास 3 घंटे हैं खुदा चालू कर दीजिए मजदूरों ने खोजना शुरू कर दिया लगभग उन्होंने 3 फीट खुदा और सबसे बड़ा सरप्राइज यह था कि सोना निकल गया यह व्यक्ति उस गोल्डमाइन का मालिक था 


Three Feet From Gold [2021] – A Story About Perseverance in Hindi
Three Feet From Gold – A Story About Perseverance in Hindi

The result of deeds finds us just as a calf loses its mother in hundreds of cows.

आने वाले वक्त में बहुत बड़ा अमीर आदमी बना जब एक बार किसी ने पूछा इससे बाद में कि जिंदगी और मौत के बीच में अंतर क्या है तो उसने कहा कि सिर्फ 3 फीट का अंतर है 


इस कहानी से हमें सीख मिलती है

कि छोटी सी कहानियां लेकिन जिंदगी में भी सिखाती है कि थोड़ा सा टाइम दीजिए धैर्य रखिए हर चीज ठीक होगा जब सब लोग आशा त्याग देते हैं और जब आप आशा रखें उम्मीद रखे तो जिंदगी में कमाल होता है सोने की खदान के पास में कोई नहीं पहुंचा लोगों ने सोचा कि गड्ढा है इसे खरीदने में क्या फायदा उस नीलामी में अकेला आदमी पहुंचा और इसने खुद भी जिंदगी की आशा त्याग रखी थी इसने लेकिन हार नहीं मानी उसने सोचा कि एक बार और ट्राई करते हैं इसमें एक कोशिश और कर लेते हैं इसमें थोड़ा पैसा और लगा देते हैं एक उम्मीद की किरण थी इसके पास में और यह तो यह भी सोच रहा था जो होगा देखा जाएगा इसमें लेकिन ऊपर वाले  इसके लिए कुछ अलग प्लान था‌ और ऊपर वाले ने इसके लिए थोड़ा सा कमाल कर दिया।


अगर आपको यह पोस्ट अच्छी लगी हो तो ज्यादा से ज्यादा लोगों में शेयर के कीजिए 


 धन्यवाद 

Previous Post Next Post