अब से तुम इस राज्य के नए राजा हो | Motivational Story | Hindi Motivation Story

एक बड़ी कमाल की कहानी

जिंदगी में हमेशा दो तरह के लोगों से सावधान रहना पहला वो जो आप में वो कमी बताएं जो आप में है ही नहीं और दूसरे वो जो आप में वह खूबी बताएं जो आप में है ही नहीं

यह कहानी है एक राजा की जिसकी कोई संतान नहीं थी उतरा अधिकारी नहीं था  चून पा रहा था बूढ़ा हो चला था अब इसे जरूरत थी इस राज्य को एक अगला राज्य देने की अपने मंत्रियों से बात की तो मंत्रियों ने कहा कि आप किसी को अडॉप्ट कर लीजिए किसी ने कहा कि आप अपने मंत्रियों में से किसी को भी चुन कर के राजा बना दिया जाए अपनी पसंद से राजा को यह सब समझ में नहीं आ रहा था तो किसी ने कहा कि कंपटीशन रखवा लीजिए जो जीतेगा वही इस राज्य का अगला राजा होगा

उस राजा ने यह कहा कि किसी भी तरह की कोई कंपटीशन नहीं होगी सिंपल एक इंटरव्यू होगा जो भी आएगा मेरे से बात करेगा और मैं बात करके पहचान लूंगा कि वह अगला राजा बनने के लिए लायक है या नहीं  है  तो किसी ने कहा कि आप इसमें क्राइटेरिया डाल दीजिए राजा ने कहा कि नहीं इसमें कोई भी उम्र के व्यक्ति आ सकता है और आकर के अगले राजा के लिए इंटरव्यू दे सकता है

अब यह राजा वाली बात थी यह जगह पहली धीरे-धीरे अगले राज्य में कस्बों में गांवों में जाकर के यह बात पहुंच गई तू सब तरह के लोग वहां पहुंचने लगे राज महल में

 एक छोटा सा गांव था वहां एक लड़का वहां किसानी करता था खेती करता था उसे जब यह बात मालूम चली तो उसने अपने पिता जी को कहा कि मुझे भी वहां जाकर के इंटरव्यू देना है तू उसके पिताजी ने कहा देख लो मुझे नहीं लगता कि तुम्हारा कुछ हो सकता है तो उस लड़की ने कहा कि मैं एक बार कोशिश करता हूं लड़के के घरवालों ने हां कह दी वह तैयार था अगले दिन इंटरव्यू देने जाने के लिए लेकिन सवाल यह था उसके पास में ढंग के कपड़े नहीं थे 

अब इसके पास कोई ढंग के कपड़े नहीं थे तो इसे अपने आप में अंदर से घिन आने लगी कोई अच्छा सा कपड़ा नहीं है तो मैं इंटरव्यू देने कैसे जाऊंगा पता नहीं जब मुझे राजा देखेंगे तो पहली बार उनका इंप्रेशन कैसे होगा मुझे नहीं लगता कि मैं जब जूएगा दोस्तों से कुछ रुपए मांगा तो उसने अपने फादर से कहा कि क्या मुझे कुछ पैसे मिल पाएंगे घर में इतने पैसे भी नहीं थे जैसे तैसे करके उसने जुगाड़ से एक खूबसूरत सा जैकेट बनवाया पुराने से कपड़े थे फटी  सी पुरानी सी शर्ट थी और पुरानी से पेंट इस थी अब अच्छा सा एक जैकेट डाला और इंटरव्यू देने के लिए वह जो नगर था जहां उनकी राजधानी थी वहां के लिए चल पड़ा

रास्ते में सोचते सोचते यह लड़का जा रहा था कि क्या सवाल पूछे जा सकते हैं मुझे पता नहीं क्या जवाब देना होगा यह सभी के साथ होता है जब भी कोई इंटरव्यू होता है तो यह सभी के साथ होता है कि अंदर नर्मसा हो रहा था  यह लड़की के साथ भी ऐसा ही हो रहा था वह जो नगर था वो आ ही गया था वहां पर परकोटा दिख रहा था कि तभी उसे एक भिकरी  दिखाई दिया वह सड़क के किनारे बैठा हुआ था सर्दी का मौसम था ठीक चल रहा था और उसने इस लड़के से कहा कि बाबूजी मेरी मदद कर दोगे मुझे कुछ शरीर पर उड़ने के लिए कपड़े देख कर  चले जाओ 

इस लड़की के पास में कुछ भी नहीं था थोड़ा-बहुत खाने-पीने के सामान लेकर आया था एक थैले में इसको लगा कर खाने पीने से तो काम चल नहीं पाएगा इससे तो कपड़ा ही चाहिए इसने अपने ऊपर देखा कि एक बड़ी अच्छी सी जैकेट जो की मेहनत से उधारी से उसने बनवाई थी जैसे तैसे पहन कर के आया था कि चलो इससे इज्जत बच जाएगी अब लगता है राजा के सामने इंप्रेशन चला जाएगा 

के तब भी  इसके मन ने कहा कि यही उतार कर के दे दूं फिर उसने यही जैकेट जो कि जैसे तैसे करके इसके पास आई थी उसने उतार कर के इस भिकारी को दे दी उसके बाद चल पड़ा आगे उस नगर में पहुंचा कुछ राजधानी में पहुंचा जहां इसे इंटरव्यू देना था जो राजा के सैनिक थे उन्होंने बोला कि यहां जा करके रुक जाइए दो-तीन घंटे के बाद वह आराम किया इसके बाद इसका इंटरव्यू का टाइम आया बाल बाल बना करके वही पुराने से कपड़े थे गंदे से बिल्कुल मन ही मन सोच रहा था कि क्या होगा अब तो वह तो जैकेट भी चली गई है सब कुछ खत्म होने वाला है सब बिगड़ गया है लेकिन कोई बात नहीं अब यहां तक आ गया हूं अब पापा पूछेंगे कि क्या करके आए हो  तो कम से कम यह तो बोल दूंगा कि मैं राजा साब से मिलकर आया हूं जब राजा के कक्ष में पहुंचा तू वहां राजा नहीं था 

थोड़ी देर के बाद में राजा आया जैसे ही राजा आया तो इस लड़के के पैरों के नीचे से जमीन खिसक गई इसे समझ नहीं आया कि यह क्या हो गया है वह जो राजा था वह वही भिखारी था जो थोड़ी देर पहले मिला था इसे रास्ते में जो इस लड़के का अनमोल जैकेट था वो ले लिया था एक अच्छा सा कपड़ा पहन के आया था वह भी ले लिया था इस लड़के से बोला ही नहीं जा रहा था इसे समझ नहीं आ रहा था कि मैं क्या रिएक्शन दू तू इस लड़के ने इशारों में पूछा था कि आप वही है जो रास्तों में मिले थे राजा ने कहा कि हां मैं वही भीकारी हूं जो थोड़ी देर पहले मैं मिला था 

तो फिर इसके  के अंदर हिम्मत आई और उसने पूछा कि आपने मेरे साथ यह क्यों किया एक कौन सी परीक्षा थी यह क्या तरीका है मेरे पास में एक ही  जैकेट  थी वह भी आप ने ले ली अब आप ही यहां पर राजा बनकर बैठे हैं और आप ही राजा हैं मुझे तो समझ में नहीं आ रहा है कि मैं अब क्या बोलूं राजा ने बोला कि परेशान मत हो अगर मैं राजा बन के सबसे पहले तुमसे मिलता तुम्हें जो बोलता तुम वह कर देते तुम दुनिया का हर काम कर देते मुझे इंप्रेस करने के लिए और अगला राजा बनने के लिए लेकिन मैं तुम्हारे सामने सबसे पहले दिन ही भिखारी बन  करके आया और मैं तुम्हारी असली चरित्र को असली कलेक्टर को जानना चाहता था अंदर से तुम कैसे हो 

सर्दी का मौसम  चल रहा था मैं वहां भिकारी बन  करके तुम्हारे पास एक जैकेट था मुझे नहीं लगता कि तुम्हारे पास कपड़े भी होंगे ज्यादा घर पर बड़ी मुश्किल के साथ शायद तुम यह जैकेट ले कर के आए होंगे सबसे पहले तो यह जैकेट अपना वापस लो और अब से तुम इस राज्य के नए राजा हो 

उस लड़के ने बोला कि आपने तो मेरे से कुछ पूछा भी नहीं यह कौन सा तरीका है नया राजा चुनने का तो राजा ने कहा कि मुझे सब समझ आ गया है जो आदमी दिल से अच्छा होता है जो बिना किसी स्वार्थ के दूसरों की मदद कर देता है जिसे रिटर्न में जिसको कुछ भी नहीं चाहिए और जो अपने पास भी नहीं है वह सामने वाले की मदद करने के लिए तैयार हो जाता है वही व्यक्ति सबसे अच्छा इंसान होता है इसलिए मुझे अपने राज्य के लिए तलाश थी कि जो सबसे अच्छा इंसान हो वही इस राज्य का राजा होगा इसलिए मैंने कोई आज कोई ग्रुप कोई क्राइटेरिया नहीं लगाया था

इस कहानी से हमें यह सीख मिलती है कि 

जिंदगी में सबसे पहले बनना है तो एक अच्छा इंसान बनो हर कहानी में मैं बताता हूं तो पैसे तो हर कोई कमाता है दुआ जिस दिन हम कमाने लगेंगे एक अच्छा इंसान बनने लगेगा

RELATED ARTICLES