एक लव स्टोरी यह भी | Also A Love Story

यह सच्ची कहानी है उड़ीसा में रहने वाले प्रद्युम्न की यह परिवार उड़ीसा में रहता था इसके गांव में इसके जाति को अनटचेबल मानते थे लेकिन इसके परिवार ने कुछ पैसे इकट्ठा किया और इसको पढ़ने के लिए यहां से दूर दिल्ली भेज दिया दिल्ली आकर के प्रद्युम्न ने कॉलेज ऑफ आर्ट्स में एडमिशन लिया वाह रह करके यह लड़का पोट्रेट बनाने लगा और पोर्ट्रेट ने कमाल करना शुरू कर दिया पूरी दुनिया में पॉपुलर हो गई यहां तक कि लंदन में रहने वाली लड़की 19 साल की स्वीडन मैं रहती थी 

उसको पोर्ट्रेट बहुत ही ज्यादा पसंद आए और उसने सोचा वह इस आर्टिस्ट से मिलना चाहती हैं वह मिलने के लिए खुद की पोट्रेट बनवाने के लिए हिंदुस्तान चली आई यह आकर के प्रद्युम्न से उसने मुलाकात की और बताया कि वह अपनी पोट्रेट बनवाना चाहते हैं पहली नजर में इस सुंदर लड़की को प्रद्युम्न ने देखा इतनी सुंदर लड़की देखी नहीं थी इसे उस लड़की से प्यार हो गया इस ने जी जान लगा दी बेस्ट परफॉर्मेंस दिया और उस लड़की की पोट्रेट बनाएं जब इस लड़की ने अपनी पोट्रेट देखी तो इसे भी प्रद्युम्न से प्यार हो गया

इन दोनों के लव स्टोरी आगे बढ़ी इस लड़की ने अपना इंडियन नाम रख लिया चारु लता और दोनों ने शादी कर ली इंडियन रिचुअल से उसके बाद वक्त आया जुदाई का चारु लता को अब स्वीडन जाना था यह लड़की स्वीडन चली गई और जाते-जाते यह बोला कि तुम्हें मेरे पास आना है अपनी पढ़ाई पूरी करके प्रद्युम्न ने प्रॉमिस किया कि वह उससे मिलने जरूर आएगा स्वीडन पहुंचने के बाद लव लेटर आना शुरू हुए यह लड़का यहां से लव लेटर भेजता हूं लड़की है वहां से लव लेटर भेजती 1 दिन जो स्वीडन में वह लड़की रहती थी उसने लिखा मुझे तुम्हारी बहुत याद आती है मैं तुम्हारे लिए एयर टिकट भेज रही हूं तुम यह एयर टिकट ले लो और यहां पर आ जाओ लेकिन इधर से प्रद्युमन ने लिखा मैं तुम्हारे पास आऊंगा लेकिन अपने खर्चे पर आऊंगा तुम एयर टिकट मत भेजना उस दौर में एयर टिकट पाना और खरीदना बहुत बड़ी बात होती थी प्रद्युम्न ने बहुत मेहनत करी लेकिन इतने पैसे खट्टे नहीं कर पाया कि वह एक एयर टिकट खरीद सकें 

स्वीडन जाने के लिए टिकट इसको समझ नहीं आया था कि क्या करें तो इसने दूसरा प्लान बनाया दूसरा तरीका अपनाया इसके पास में जितना सामान था सब भेज दिया ब्रश पेंटिंग और यह सब भेज करके एक पुरानी साइकिल खरीद ली यह साइकिल पर सवार होकर के 8 देश की यात्रा करके 4 महीने 3 हफ्ते का वक्त लगा साइकिल बीच-बीच में टूटी भी थी खाने के लिए कुछ भी नहीं था लेकिन यह बंदा अपनी पत्नी से अपनी प्रेमिका से मिलने के लिए स्वीडन तक पहुंच गया स्वीडन में जो ऑफिसर्स थे वह चौक गए कि कोई बंदा साइकिल चला कर के यहां तक पहुंच सकता है 

यह बात आग की तरह फैल गई स्वीडन मैं यह बात मालूम चला और वह प्रद्युम्न से मिलने के लिए दौड़ी चली आई ना सिर्फ इस लड़की ने एक्सेप्ट किया इसके परिवार ने भी इसे एक्सेप्ट किया इंडियन हो करके शादी के 30 साल हो गए और इनके अब बच्चे हैं काफी बड़े वाले होंगे अब जब भी प्रद्युम्न हिंदुस्तान आते हैं तू अपने गांव उड़ीसा उस गांव में जाता है जहां के रहने वाले हैं जहां इन्हें अनटचेबल माना जाता था आज इन्हें ढोल नगाड़ों के साथ स्वागत किया जाता है

RELATED ARTICLES