एक व्यक्ति की वजह से सब की मौत | Death Of All Because Of One Person Motivational Story

खामोशी से भी नेक काम होते हैं, मैंने देखा है पेड़ को छाव देते हुए….

एक बार एक तीर्थ स्थान से यात्री तीरथ करके अपने घर  बस से लौट रहे थे सब कुछ बढ़िया चल रहा था ऊपर वाले को याद कर रहे थे और कीर्तन भजन कीर्तन कर रहे थे अचानक से मौसम बदल गया बारिश होने लगी धीरे-धीरे मौसम बदलने लगा आंधी तूफान भी आने लगे धीरे-धीरे मौसम और ज्यादा बिगड़ गया तेज आंधी तूफान आ गया बिजली कड़कने लगी बिजली चमकने लगी बादल जो है गरज रहे थे और एक बार तो क्या हुआ बस के पास में थोड़ी दूर बिजली आ करके गिरी 

यात्री घबरा गए ऊपर वाले से माफी मांगने लगे कि हमसे क्या गलती हो गई आपके यहां दर्शन किए कोई गलती हो गई तो माफ करना थोड़ा आगे चले तो फिर एक बार बस के पास में आ कर के फिर से बिजली गिरी बस थोड़ी ही दूर पर अब जो यह यात्री थे मरते मरते बचे बस बाल-बाल बच गए बस के ड्राइवर ने बस रोक दी वह अपने ड्राइवर सीट से उतर कर के पैसेंजर के पास आ गया और आ करके बोला कि देखो एक बात कहना चाहता हूं आज हमारी बस में एक ऐसा इंसान ट्रैवल कर रहा है जिसकी मौत पक्की है

शायद उसको ऊपर वाला बुलाना चाहता है शायद इसीलिए दो तीन बार ऐसा हो गया कि बस के पास में बिजली आ करके गिरी है अगर हमने उस इंसान को इस बात से नहीं उतरा तो हमारी मौत पक्की है यात्री लोग कहने लगे हां भाई बात तो सही है पर पता कैसे लगाएं कौन है वह इंसान तो बस के ड्राइवर ने कहा कि भाई एक काम करते हैं वह जो सामने पेड़ दिख रहा है लगभग कुछ मीटर पर वह पेड़ था बोला कि वहां तक सब एक-एक करके जाएंगे सारे पैसेंजर जाएंगे पेड़ को टच करेंगे और वापस आ जाएंगे आ करके अपनी सीट पर बैठ जाएंगे 

जो भी वह इंसान होगा जिसके वजह से हमारी मौत पक्की है उसको ऊपर वाला अपने पास अपने आप बुला लेगा लोगों ने कहा ठीक है भाई कर लेते हैं दिल धड़क रहा था हर किसी को लगा कि वह इंसान मैं तो नहीं हूं लोग उतरना शुरू हुए उस बस से एक करके गए उस पेड़ के पास उसको टच किया वापस आए यह प्रोसेस चलती रहे

कंडक्टर भी गया बस का ड्राइवर भी डरते हुए गया सब सुरक्षित आ गए अब एक आखरी इंसान बचा उस आखिरी व्यक्ति को सब बस वाले घूर रहे थे  उनको लग रहा था कि यही है जिसके चक्कर में हम लोग फंसे हुए थे वह व्यक्ति अपने बस से उतरा उसका दिल धड़क रहा था जोर से उसको लग रहा था कि मेरी वजह से सब लोग शायद फंसे हैं। वह पेड़ के पास गया जाकर के उस पेड़ को छुआ और जैसे ही उस पेड़ को छुआ के तभी अचानक जोर से बिजली गिरने की आवाज आई लेकिन वो उस इंसान पर नहीं उस बस पर गिरी थी जो कि पीछे खड़ी थी और सभी यात्री भगवान को ब्रह्मलीन हो गए एक लौता इंसान था जिसके अच्छे कर्म के वजह से यह सारे लोग बचे हुए थे लेकिन इन बस वालों ने उसी को आखिर में बाहर निकाल दिया

इस कहानी से हमें यह सीख मिलती है कि

हम अपनी जिंदगी में अपनी दुनिया में हर सेकंड हर मिनट अपने सामने वाले बंदे को जज कर रहे होते हैं यह ऐसा है वह ऐसा है ऐसा ऐसा है किसी ने कहा है अगर आप लोगों को जज करते रहेंगे तो किसी को प्यार करने का वक्त नहीं मिलेगा इंसान से प्यार कीजिए हमारे आस पास जो लोग हैं उनको समझ में उनके वैल्यू को समझ गए

RELATED ARTICLES