सीरत खूबसूरत | Seerat Beautiful Motivational Story

जमाने को मत बदलो बदलना है तो खुद को बदलो जमाने खुद ब खुद बदल जाएगा

एक बार की बात है एक बार एक खूबसूरत लेडी बहुत ही सुंदर थी वो अपनी फ्लाइट के लिए लेट हो रही थी भागते दौड़ते पहुंचती है प्लेन में एंटर करती हैं वह उस प्लेन की आखिरी पैसेंजर होती है जब प्लेन के अंदर एंटर होते हैं तो वह अपनी सीट पर पहुंचती है वो लेडी उदास हो जाते हैं नाराज हो जाते हैं क्यों क्योंकि उनकी सीट के पास वाली सीट पर एक दिव्यांग व्यक्ति बैठे होते हैं उस व्यक्ति के दोनों हाथ नहीं होते हैं फिर वो आवाज देती हैं और स्टाफ को कहती हैं ये क्या है ऐसे पैसेंजर के साथ में ट्रेवल नहीं कर सकती स्टाफ को समझ में नहीं आता कि यह क्या कहते हैं स्टाफ को समझ में नहीं आता है कि यह क्या कह रही है स्टाफ उन्हें कहते हैं कि आप पेशेंस रखें मैडम आप बैठ जाइए  प्लीज

लेकिन यह जो खूबसूरत सी लेडी थी कहती है नहीं  स्टाफ को समझ नहीं आता है इतनी अच्छी खासी देखने वाली महिला जो है वो इस तरीके से ऐसी बात कर रही हैं तो कहते हैं ठीक है मैम आपने कहा है हमारे लिए तो हर पैसेंजर इंपॉर्टेंट होता है मैं अंदर जाती हूं कैप्टन से बात करती हूं वह कुछ सलूशन निकालते हैं अंदर जाते हैं कैप्टन से बात करती हैं बाहर आती है और आ करके उस मोहतरमा से कहते हैं हमारे कैप्टन में आज एक एक्स्ट्रा ऑर्डिनरी डिसीजन लिया है हम पहली बार अपने प्लेन में अपने फ्लाइट में एक ऐसे पैसेंजर को जो एक इकोनामिक क्लास में बैठा रहे है उसे हम बिजनेस क्लास में शिफ्ट करने जा रहे हैं यह सुनने के बाद में यह जो खूबसूरत मोहतरमा होती है आखरी पैसेंजर यह बड़ी खुश हो जाती है रिलैक्स फील करती हैं कि चलो फाइनली मेरी सुनी ली गई 

लेकिन जो स्टाफ होता है रुकती नहीं है वह आगे चली जाती हैं और उन दिव्यांग व्यक्ति के पास पहुंचती है जिनके दोनों हाथ नहीं थे और उन्हें कहती हैं कि सर मेरे साथ आइए हम आपको फर्स्ट क्लास में शिफ्ट कर रहे हैं बिजनेस क्लास में शिफ्ट कर रहे हैं हम बिल्कुल भी नहीं चाहते कि आप ऐसे पैसेंजर के साथ में ट्रेवल करें जिन्हें इंसानियत के परवा ने और इंसान की परवाह नहीं होती है यह सुनने के बाद में फ्लाइट में जितने भी लोग थे सभी लोग ताली बजाने लगते हैं और वह व्यक्ति अपने सीट से खड़े होते हैं और कहते हैं कि यह दोनों हाथ में ने कारगिल के युद्ध में खोए थे और जब मैं इन मैडम की बात सुन रहा था मुझे लग कि हैं वहां किन लोगों के लिए जान गवाने के लिए तैयार हैं लेकिन जब कैप्टन का फैसला सुना और आप लोगों की तालियां सुनी तो मुझे लगा कि नहीं हम देशवासियों के लिए ही लड़ाई लड़ रहे हैं  

इसका कहानी से सीख मिलती है कि

एक छोटी सी कहानी हमें बहुत सारी बातें बताते हैं की पहली बात जिंदगी में सीरत खूबसूरत होनी चाहिए सूरत में कुछ भी नहीं रखा दूसरी बात जो है कि जिंदगी में यह सोचता रहता है मैं ऐसा दिखता हूं वैसा दिखता हूं अपने बारे में सोच अपनी हाइट के बारे में सोचता अपनी पर्सनैलिटी के बारे में सोचता अगर आप की सीरत अच्छी होगी तो आप जिंदगी में अपनी लाइफ में कुछ भी कर सकते हैं

RELATED ARTICLES