सर मैं रास्ता भटक गया हूं | Sir I Have Lost My Way Motivational Story

उनकी परवाह मत करो जिसका विश्वास वक्त के साथ बदल जाए, परवाह सदा उनकी करो, जिनका विश्वास आप पर तब भी रहे जब आपका वक्त बदल जाए

एक बार की बात है एक अमीर व्यक्ति अपने गाड़ी से उतरा एयरपोर्ट में तेजी से घुसा क्योंकि उसका फ्लाइट का टाइम हो रहा था वो बहुत लेट हो रहा था फ्लाइट में जाकर के यह बंदा पहुंच गया प्लेन ने जब टेक ऑफ किया तो इस बंदे ने अपना लैपटॉप खोल लिया यह खुश था इसीलिए की टाइम पर पहुंच चुका था इसे कॉन्फ्रेंस में जाना था उसकी तैयारी करने लगा इस व्यक्ति को इसे स्पीकर के तौर पर वह बुलाया गया इससे सुनने के लिए बड़े-बड़े लोग आने वाले थे बड़ा अमीर व्यक्ति इसकी जिंदगी में सब कुछ सही चल रहा था

लेकिन आसमान में गड़बड़ हो गई आसमान में तेज बारिश होने लगी आसमान में जब बिजलियां कड़कने लगी जो फ्लाइट का कैप्टन था उसने अनाउंसमेंट की अब हमें डेस्टिनेशन पर पहुंचने के लिए समय नहीं है हमें पास के किसी एयरपोर्ट पर लैंड करना होगा इन भाई साहब का दिमाग ठनक गया इन्हें गुस्सा आने लगा जो इनका प्लेन था किसी एयरपोर्ट पर लैंड किया गया ये बाहर निकले और पूछा कि कौन सा जगह है एयरलाइन वालों से गुस्सा करने लगे उन पर भड़कने लगे बोलने लगे कि क्या तरीका है मुझे वहां पर पहुंचना था आपने टाइम पर नहीं पहुंचाया ये है वो है तभी एक व्यक्ति उनके पास आया और बोला कि सर आप इतना गरम मत होइए मैंने आपको पहचान लिया है आप डॉक्टर खुराना है ना आपको कॉन्फ्रेंस में जाना है मुझे भी उसी कॉन्फ्रेंस में जाना था आप परेशान मत होइए आप इस एयरपोर्ट से बाहर निकलिए और कैब कर लीजिए और वह जगह जहां आपको पहुंचना है वो यहां से 3 घंटे की दूरी पर है

इन्होंने कहा भाई साहब थैंक्यू मुझे बताने के लिए फिर यह एयरपोर्ट से बाहर आए इन्होंने कार की जो टैक्सी ड्राइवर था उससे बोला कि मुझे वक्त पर पहुंचा  देना भैया पहली मेरी जिंदगी बहुत मुसीबत में चल रही है मुझे एक जगह पर जाना है मुझे सुनने के लिए लोग आ रहे हैं जो टैक्सी ड्राइवर था उसने कहा ठीक है साहब पहुंचा देंगे आपको कोशिश करेंगे मौसम बिगड़ा हुआ है  तेज बारिश हो रही है इस तेज बारिश में इस कार  के ड्राइवर ने कार चलाना शुरू किया थोड़ा वक्त हुआ इतनी तेज बारिश हो रही थी उस कार के ड्राइवर को कुछ समझ नहीं आ रहा था और क्या किया जाए और इसी उड़ेल में रास्ता भटक गया अब उसे पता तो चल गया कि रास्ता भटक गया पर लेकिन पीछे वाली पैसेंजर को जो साहब को लेकर के आया था एयरपोर्ट से तो उसे कैसे बताएं। तो उसने डरते डरते बताया कि सर मैं रास्ता भटक गया हूं 

अब यह फिर उस पर गुस्सा करने लगे फिर समझ में आया कि अब कॉन्फ्रेंस में पहुंच तो नहीं पाऊंगा अब इन्होंने उस ड्राइवर से कहा कि भाई मेरे अब मुझे जहां भी पहुंचा सकता है मुझे पहुंचा दे अब मुझे यह मुसीबत से बाहर निकाल थोड़ा आगे चले तो इस ड्राइवर ने आसपास के जगह को देखा तो इसे एक छोटा सा घर दिखाई दिया उसने उस घर के पास जाकर के अपनी गाड़ी खड़ी खड़ी तो उसने कहा कि सर थोड़ा रुक जाते हैं जब बारिश थम जाएगी तूफान थम जाएगा तो हम आगे बढ़ जाएंगे उन्होंने कहा ठीक है उस छोटे से घर का जो दरवाजा था इन भाई साहब ने वह दरवाजा खटखटाया 

अंदर से एक बूढ़ी अम्मा की आवाज आई उन्होंने कहा कि जो भी है अंदर आ जाएं परेशान ना करें इन्होंने डरते हुए दरवाजा खोला तो देखा कि एक बूढ़ी अम्मा जो भगवान से प्रार्थना कर रही थी पूजा पाठ कर रही थी यह चुपचाप जाकर के बैठ गए वहां इन्होंने देखा कि  बिस्तर पर एक छोटा सा  बच्चा सोया हुआ था उन्होंने अपनी पूजा पाठ पूरी की फिर उनसे पूछा कि आप क्या पियोगे चाय पियोगे या पानी पियोगे तो उन्होंने कहा अरे आपका बहुत-बहुत धन्यवाद एक फोन दे देती तो बड़ा अच्छा रहता तो बूढ़ी अम्मा हंसने लगी और कहा कि यहां गांव में कौन सा फोन और यहां कौन सी बिजली  

आप एक काम करो आप बैठो आराम से जब बारिश थम जाए  तब चले जाना तो यह व्यक्ति जो थे उन्होंने कहा बड़ी अच्छी है आप से मुलाकात हो गई ऊपर वाले का धन्यवाद तो उन्होंने कहा कि ऊपर वाले का धन्यवाद तो मैं तब करूंगी जब मेरे पोते का इलाज करने जब वह डॉक्टर आ जाएगा जब मैं अपने पोते का इलाज करवा लूंगी उन्होंने कहा कि बात क्या है तो उस बूढ़ी अम्मा ने बताया कि मेरा यह पोता है इसके मां-बाप अब जिंदा नहीं है अब एक में ही सहारा हूं और मेरे पोते को एक खतरनाक बीमारी है यह आसपास के डॉक्टर ने बताते हैं कि दिल्ली से एक बड़े डॉक्टर है डॉक्टर खुराना तो वहीं इसका बीमारी का इलाज कर सकते हैं अब उनके पास में कैसे पहुंच ऊंगी यह सब मुझे नहीं पता बस यही प्रार्थना मैं ऊपर वाले से करते रहते हूं यह बात सुनने के बाद जमीर व्यक्ति की आंखों में आंसू आ गए और उन्होंने कहा कि अम्मा आपकी प्रार्थना ऊपर वाले ने सुन ली है मेरा प्लेन जहां पहुंचना था वहां नहीं पहुंचा तेज बारिश होने लगी तूफान आ गया मेरी गाड़ी को जहां पहुंचना था मेरी गाड़ी वहां नहीं पहुंची रास्ता भटक गया और आपके दरवाजे पर आ गया मैं ही डॉक्टर खुराना हूं 

इस कहानी से बड़ी सीख मिलती है कि

यह छोटी सी कहानी एक बहुत बड़ी बात सिखाती है कि तेरे दर पर आने से पहले मैं कुछ और होता हूं लेकिन तेरी दहलीज़ को छूते ही मैं कुछ और होता हूं 

RELATED ARTICLES